Latest News
चिप मैन्यूफैक्चरिंग में चीन का दबदबा खत्म होगा:बाइडेन ने 200 अरब डॉलर के बिल को मंजूरी दी, अमेरिकी कंपनियों को फायदा होगाइमरान का करीबी दोस्त गिरफ्तार:शाहबाज गिल को कार के शीशे तोड़कर ले गई पुलिस, अब पूर्व प्रधानमंत्री खान की बारीभास्कर अपडेट्स:24 घंटे में कोरोना के 14, 317 नए केस, 47 की मौत, दिल्ली और हिमाचल में पॉजिटिविटी रेट 15% के पारश्रीलंका में बिजली की दर में 264% की बढ़ोतरी:रेगुलेटर ने इजाजत दी, कहा- घाटे की भरपाई करने के लिए बदलाव जरूरीकॉमनवेल्थ गोल्ड मेडलिस्ट साक्षी मलिक पहुंची घर:बोलीं- अंतिम मैच सोचकर लड़ी कुश्ती; मोटिवेट करने को किया अभ्यास, नेगेटिव सोच से रखी दूरीक्लाइमेट चेंज का बच्चों की हलचल पर असर:61% बच्चे जरूरी शारीरिक गतिविधि नहीं कर पाते, माता-पिता से 30% कम फिट हैंपाकिस्तान में प्रेग्नेंट महिला की बेहोश होने तक पिटाई:सिक्योरिटी गार्ड ने पहले थप्पड़ मारकर गिराया, फिर मुंह में लात मारी; आरोपी अरेस्टPAK सेना के काफिले में फिर आत्मघाती हमला:रिक्शा में बम बांधकर आए हमलावर ने सेना की गाड़ी में टक्कर मारी; 4 की मौत, 7 घायलनीदरलैंड्स में बुजुर्गों के लिए खास पहल:अब सीनियर सिटीजंस की देखभाल करेंगे स्मार्ट गैजेट्स, 'स्मार्ट फ्लोर' गिरने से बचाएगाडोनाल्ड ट्रम्प के घर FBI की रेड:तलाशी के बाद कई डॉक्यूमेंट्स जब्त; ट्रम्प बोले- वे मुझे 2024 का चुनाव लड़ने से रोक रहे

कारगिल विजय दिवस पर निबंध इतिहास कहानी

कारगिल विजय दिवस पर निबंध इतिहास कहानी

कारगिल विजय दिवस – कारगिल की ऊंची चोटियों को पाकिस्तान के कब्जे से आजाद करवाते हुए बलिदान देने वाले देश के वीर सपूतों की याद में हर साल कारगील विजय दिवस 26 जुलाई मनाया जाता हैKargil Vijay Diwas हर साल 26 जुलाई को 1999 में कारगिल युद्ध में पाकिस्तान (Pakistan) पर भारत (India) की जीत के उपलक्ष्य में मनाया जाता हैइस कार्य के लिए भारतीय सेना द्वाराऑपरेशन विजयप्रारंभ किया गया था और ऑपरेशन विजयकी सफलता के बाद इसे कारगिल विजय दिवसका नाम दिया गयायुद्ध के दौरान, भारतीय सेना (Indian Army) ने पाकिस्तानी घुसपैठियों को खदेड़ दिया औरऑपरेशन विजय” (Operation Vijay) के हिस्से के रूप में टाइगर हिल (Tiger Hills) और अन्य चौकियों पर कब्जा करने में सफल रही

लद्दाख (Ladakh) के कारगिल में 60 दिनों से अधिक समय तक पाकिस्तानी सेना (Pakistani Army) के साथ लड़ाई जारी रही और अंत में भारत को इस युद्ध में जीत हासिल हुईहर साल, इस दिन हम पाकिस्तान द्वारा शुरू किए गए युद्ध में शहीद हुए सैकड़ों भारतीय सैनिकों को श्रद्धांजलि देते हैंभारतीय सशस्त्र बलों के योगदान को याद करते हुए देशभर में कई कार्यक्रम भी आयोजित किए जाते हैं

कारगिल विजय दिवस

ऐसा माना जाता है कि पाकिस्तान 1998 की शरद ऋतु में ही ऑपरेशन की योजना बना रहा था। भारतीय सेना 30 जून, 1999 तक विवादित कश्मीर क्षेत्र में सीमा पर पाकिस्तानी चौकियों के खिलाफ एक बड़े ऊंचाई वाले हमले के लिए तैयार थी। छह हफ्तों की अवधि में, भारत ने कश्मीर में 5 पैदल सेना डिवीजनों, 5 स्वतंत्र ब्रिगेड और अर्धसैनिक बलों की 44 बटालियनों को स्थानांतरित किया था। ऐसा कहा जाता है कि घुसपैठ की योजना पाकिस्तानी सेना प्रमुख जनरल परवेज मुशर्रफ और जनरल स्टाफ के प्रमुख लेफ्टिनेंट जनरल मोहम्मद अजीज के दिमाग की उपज थी।

कारगिल लड़ाई क्षेत्र [Kargil war location]

सन 1947 में हिंदुस्तान के बंटवारे से पहले, कारगिल लद्दाख जिले के बल्तिस्तान का हिस्सा थायह क्षेत्र विभिन्न भाषाओँ को बोलने वाले और विभिन्न धर्मों के लोगों से आबाद हैं, जो यहाँ विश्व के सबसे ऊँचे पहाड़ों के बीच घाटियों में निवास करते हैंसन 1947 – 1948 में हुए प्रथम कश्मीर युद्ध ने बल्तिस्तान जिले को 2 भागों में बाँट दिया, अब कारगिल इसका भाग नहीं, अपितु एक पृथक जिला बन गया थाकारगिल जिला भारत के जम्मू और कश्मीर राज्य के लद्दाख सबडिविज़न में आता हैंसन 1971 के भारतपाक युद्ध में पाकिस्तान की हार हुई और इसके बाद दोनों देशों ने शिमला समझौते पर हस्ताक्षर किये, जिसके अनुसार अब दोनों देशों ने सीमाओं के संबंध में टकराव करने से इंकार किया

कारगिल विजय दिवस

कारगिल (Kargil) –

यह क्षेत्र श्रीनगर से 205 कि.मी. [127 मील] की दूरी पर स्थित हैंयह LOC के उत्तर दिशा की ओर हैंकारगिल में भी तापमान हिमालय के अन्य क्षेत्रों की तरह ही होता हैंगर्मियों के मौसम में भी ठण्ड होती हैं और रातें बर्फीली होती हैंसर्दियों में तापमान और भी ठंडा हो जाता हैं और अक्सर -48 डिग्री सेल्सिअस तक गिर जाता हैं

कारगिल पाकिस्तान के स्कार्दू नामक टाउन से मात्र 173 किमीकी दूरी पर ही स्थित हैं और इसी कारण पाकिस्तान अपने सैनिक दलों को सूचनाएं और गोलाबारूद और तोपें मुहैया कराने में सक्षम रहता है

कारगिल टकराव के दिन [Kargil Conflict Events & War Progress]

(Kargil)कारगिल युद्ध की 3 प्रमुख अवस्थाएँ रहीं, जिनका विवरण निम्नानुसार हैं

  1. सबसे पहले पाकिस्तान ने भारत अधिगृहित कश्मीरी क्षेत्र [ Indian – Controlled section of Kashmir ] में अपनी सेना की घुसपैठ शुरू की और अपनी तोपों की रेंज में आने वाले नेशनल हाइवे 1 [ NH1 ] की ओर के स्थानों पर रणनीति पूर्वक कब्ज़ा किया
  2. दुसरे चरण में भारत ने इस घुसपैठ का पता लगाया और भारतीय सेना को इसका जवाब देने के लिए उन स्थानों पर भेजा
  3. अंतिम चरण में भारत और पाकिस्तान के बीच युद्ध शुरू हो गया और इसका नतीजा ये हुआ कि भारत ने उन सभी स्थानों पर विजय प्राप्त की, जहाँ पाकिस्तान ने कब्ज़ा कर लिया था और अंतर्राष्ट्रीय दबाव के चलते पाकिस्तानी हुकुमत ने अपनी फ़ौज को लाइन ऑफ़ कंट्रोल से पीछे हटा लिया

भारतीय सेना ने घुसपैठियों का पता लगाया

8-15 मई, 1999 की अवधि के दौरान कारगिल पर्वतमाला के ऊपर भारतीय सेना के गश्ती दल द्वारा घुसपैठियों का पता लगाया गया। कारगिल और द्रास के सामान्य इलाकों में, पाकिस्तान ने सीमा पार से तोपों से गोलीबारी का सहारा लिया। भारतीय सेना द्वारा कुछ ऑपरेशन शुरू किए गए जो द्रास सेक्टर में घुसपैठियों को काटने में सफल रहे। साथ ही बटालिक सेक्टर में घुसपैठियों को पीछे धकेल दिया गया। ऊंचाई पर, घुसपैठिए दोनों पेशेवर सैनिक और भाड़े के सैनिक थे, जिनमें पाकिस्तान सेना की नॉर्दर्न लाइट इन्फैंट्री (एनएलआई) की तीसरी, चौथी, 5वीं, 6वीं और 12वीं बटालियन शामिल थीं। इनमें पाकिस्तान के विशेष सेवा समूह (एसएसजी) के सदस्य और कई मुजाहिद्दीन भी शामिल थे।

प्रारंभ में, यह अनुमान लगाया गया था कि लगभग 500 से 1000 घुसपैठिए वहां ऊंचाई पर कब्जा कर रहे थे, लेकिन बाद में यह अनुमान लगाया गया कि वास्तविक ताकत लगभग 5000 रही होगी। घुसपैठ का क्षेत्र 160 किलोमीटर के क्षेत्र में फैला हुआ था। पाकिस्तानी घुसपैठिए एके 47 और 56 मोर्टार, आर्टिलरी, एंटीएयरक्राफ्ट गन और स्टिंगर मिसाइलों से लैस थे। 

कारगिल में भारतीय सेना के अभियान

घुसपैठ का पता भारतीय सेना ने 3 मई-12 मई के बीच लगाया था। और 15 मई-25 मई, 1999 से, सैन्य अभियानों की योजना बनाई गई, उनके हमले के स्थानों पर सैनिकों को भेजा गया, तोप और अन्य हथियार भी भेजे गए और आवश्यक हथियार भी खरीदे गए। मई 1999 में, भारतीय सेना द्वाराऑपरेशन विजयनाम से एक ऑपरेशन शुरू किया गया था। जिसके बाद भारतीय सैनिक विमानों और हेलीकॉप्टरों द्वारा दिए गए हवाई कवर के साथ कब्जे वाले पाकिस्तानी ठिकानों की ओर बढ़ गई।

1999 का भारतीय सेना का ऑपरेशन विजय नॉर्दर्न लाइट इन्फैंट्री (एनएलआई) के नियमित पाकिस्तानी सैनिकों को बेदखल करने के लिए एक संयुक्त इन्फैंट्रीआर्टिलरी प्रयास था, जिन्होंने नियंत्रण रेखा के पार भारतीय क्षेत्र में घुसपैठ की थी और उच्चऊंचाई और राइडलाइन्स पर अनियंत्रित पर्वत चोटियों पर कब्जा कर लिया था। जल्द ही यह स्पष्ट हो गया कि केवल विशाल और सतत गोलाबारी ही घुसपैठियों के संगरों को नष्ट कर सकती है।

कारगिल विजय दिवस

हवाई अभियान

11 मई से 25 मई तक वायु सेना द्वारा जमीनी सैनिकों को सपोर्ट किया गया और खतरे को नियंत्रित करने, दुश्मन के स्वभाव की स्थिति का पता करने और कई प्रारंभिक कार्रवाइयों को अंजाम देने की कोशिश की गई। 26 मई को लड़ाकू कार्रवाई में वायु सेना के प्रवेश से संघर्ष में बदलाव लाया। क्या आप जानते हैं कि वायु सेना के ऑपरेशन सफेद सागर में, वायु सेना ने लगभग 50-दिनों के संचालन में सभी प्रकार की लगभग 5000 उड़ानें भरीं? कारगिल से पहले पश्चिमी वायु कमान ने तीन सप्ताह तक चलने वाला त्रिशूल अभ्यास किया था। त्रिशूल के दौरान, भारतीय वायु सेना ने लगभग 35000 कर्मियों का उपयोग करते हुए 300 विमानों के साथ 5000 उड़ानें भरीं और हिमालय में उच्च ऊंचाई पर लक्ष्य बनाए।

कंधे से दागी जाने वाली मिसाइलों का खतरा बड़ा था। पाकिस्तानी स्टिंगर ने एलओसी के पार से आईएएफ के कैनबरा रेकी विमान को क्षतिग्रस्त कर दिया। ऑपरेशन के दूसरे और तीसरे दिन, IAF ने एक मिग-21 लड़ाकू और एक एमआई-17 हेलीकॉप्टर खो दिया। इसके अलावा, एक मिग-27 दूसरे दिन इंजन की विफलता के कारण खो गया था। कारगिल के सबसे नजदीक श्रीनगर, अवंतीपुर और जालंधर के पास आदमपुर से भारतीय हवाई क्षेत्र थे। इसलिए, IAF ने इन तीन ठिकानों से संचालन किया। जमीनी हमले के लिए इस्तेमाल किए गए विमानों में मिग -2 आई, मिग -23, मिग -27, जगुआर और मिराज -2000 शामिल थे। ऑपरेशन विजय में अनुमान है कि अकेले हवाई कार्रवाई से लगभग 700 घुसपैठिए मारे गए।

नौसेना संचालन

कारगिल विजय दिवस

जैसे ही भारतीय वायु सेना और सेना ने कारगिल की ऊंचाइयों पर लड़ाई के लिए खुद को तैयार किया, भारतीय नौसेना ने अपनी योजना तैयार करनी शुरू कर दी। 20 मई से, भारतीय नौसेना को भारतीय जवाबी हमले के शुरू होने से कुछ दिन पहले, पूर्ण अलर्ट पर रखा गया था। नौसेना और तटरक्षक विमानों को अंतहीन निगरानी में रखा गया था और इसलिए ये समुद्र में किसी भी चुनौती का सामना करने के लिए तैयार थीं। रक्षात्मक मूड में, पाकिस्तानी नौसेना ने अपनी सभी इकाइयों को भारतीय नौसेना के जहाजों से दूर रहने का निर्देश दिया।ऑपरेशन तलवारके तहतईस्टर्न फ्लीट‘ ‘वेस्टर्न नेवल फ्लीटमें शामिल हो गया और पाकिस्तान के अरब सागर के रास्ते बंद कर दिए।

भारतीय नौसेना द्वारा बनाई गई नाकाबंदी इतनी शक्तिशाली थी कि पूर्व प्रधान मंत्री नवाज शरीफ ने खुलासा किया कि अगर एक पूर्ण युद्ध छिड़ गया तो पाकिस्तान के पास खुद को बनाए रखने के लिए केवल छह दिनों का ईंधन (पीओएल) बचा था। इस तरह भारतीय नौसेना ने एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाई और कारगिल युद्ध के दौरान भारतीय सेना और वायु सेना की मदद की।

कारगिल के इन वीरों को सलाम

इस युद्ध में शामिल होने वाला हर जवान हमारे लिए प्रेरणास्रोत है मगर कुछ जवानों ने ऐसा पराक्रम दिखाया है जिसको याद कर आज भी सेना गर्व महसूस करती है

कैप्टन विक्रम बत्रा

कैप्टन विक्रम बत्रा वही हैं, जिन्होंने कारगिल के प्वांइट 4875 पर तिरंगा फहराते हुए कहा थायह दिल मांगे मोर।” विक्रम 13वीं जम्मू एंड कश्मीर राइफल्स में थेविक्रम तोलोलिंग पर पाकिस्तानियों द्वारा बनाए गए बंकर पर केवल कब्जा किया बल्कि गोलियों की परवाह किए बिना ही अपने सैनिकों को बचाने के लिए 7 जुलाई 1999 को पाकिस्तानी सैनिकों को सीधे भिड़ गएआज उस चोटी को बत्रा टॉप से जाना जाता हैसरकार ने उन्हें परमवीर चक्र देकर सम्मानित किया

कैप्टन मनोज कुमार पांडे 

शहीद मनोज गोरखा राइफल्स के फर्स्ट बटालियन में थेवह ऑपरेशन विजय के महानायक थेउन्होंने 11 जून को बटालिक सेक्टर में दुश्मनों के दांत खट्टे कर दिए थेवहीं उनके ही नेतृत्व में सेना की टुकड़ी ने जॉबर टॉप और खालुबर टॉप पर सेना ने वापस कब्जा किया थापांडेय ने अपनी चोटों की परवाह किए बिना तिरंगा लहराया और परमवीर चक्र से सम्मानित किए गए

राइफल मैन संजय कुमार

शहीद संजय 13 जम्मू और कश्मीर राइफल्स में थेवह स्काउट टीम के लीडर थे और उन्होंने फ्लैट टॉप को अपनी छोटी टुकड़ी के साथ कब्जा कियावह एक जाबांज योद्धा थे उन्होंने दुश्मनों की गोली सीने पर खाई थीगोली लगने के बाद भी वह दुश्मनों से लड़ते रहे और उन्होंने अदम्य साहस का परिचय दिया

मेजर पदमपानी आचार्य

शहीद आचार्य राजपूताना राइफल्स की बटालियन में थे। 28 जून 1999 को लोन हिल्स पर दुश्मनों के हाथों वीरगति को प्राप्त हो गए थेसरकार ने कारगिल हिल पर उनकी वीरता के लिए मरणोपरांत महावीर चक्र से सम्मानित किया था

कैप्टन अनुज नैय्यर

शहीद अनुज जाट रेजिमेंट की 17वीं बटालियन में थे। 7 जुलाई 1999 को वह टाइगर हिल पर दुश्मनों से लड़ेकैप्टन अनुज की वीरता को सरकार ने मरणोपरांत महावीर चक्र से सम्मानित किया गया

कैप्टन एन केंगुर्सू

शहीद केंगुर्सू राजपूताना राइफल्स के बटालियन में थेवह कारगिल युद्ध के दौरान लोन हिल्स पर 28 जून 1999 को दुश्मनों को पटखनी देते हुए शहीद हो गए थेयुद्ध के मैदान में दुश्मनों को खदेड़ देने वाले इस योद्धा को सरकार ने मरणोपरांत महावीर चक्र से सम्मानित किया

भारतीय सेना द्वारा घोषित विजय

26 जुलाई 1999 को सेना ने मिशन को सफल घोषित कियालेकिन जीत की कीमत ज्यादा थीकैप्टन विक्रम बत्रा कारगिल युद्ध के दौरान शहीद हुए वीर जवानों में से एक थेबत्रा को मरणोपरांत भारत के सर्वोच्च वीरता सम्मान परमवीर चक्र से सम्मानित किया गयाहाल ही में विक्रम बत्रा के जीवन पर आधारित शेरशाह नाम की एक फिल्म बनी थी

ब्रॉक चिशोल्म ने प्रसिद्ध रूप से कहा, “कोई भी युद्ध नहीं जीतता।।। नुकसान के विभिन्न स्तर होते हैं, लेकिन कोई भी जीतता नहीं है।” कारगिल युद्ध के परिणाम विनाशकारी थेबहुत सी माताओं और पिताओं ने अपने बेटों को खोया और भारत ने बहुत से बहादुर सैनिकों को खो दियाकारगिल युद्ध में भारतीय सेना के 527 सैनिक शहीद हुए जबकि पाकिस्तान के 357 सैनिकों ने अपनी जान गंवाईइस युद्ध में 453 आम नागरिकों की भी मौत हुई थी

कारगिल विजय दिवस 2022 समारोह

कारगिल विजय दिवस

इस साल करगिल विजय दिवस की 23वीं वर्षगांठ हैभारतीय सेना ने दिल्ली से कारगिल+विजय+ दिवस मोटर बाइक अभियान को हरी झंडी दिखाईयुद्ध स्मारक पर ध्वजारोहण समारोह के लिए एक विशेष कार्यक्रम की योजना बनाई गई हैशहीदों के परिवारों का स्मारक स्थल में सम्मान किया जाएगाइस अवसर पर द्रास में सांस्कृतिक कार्यक्रमों का आयोजन करने की भी योजना हैकार्यक्रम में शेरशाह की टीम मौजूद रहेगीइस कार्यक्रम में कोरियोग्राफ किए गए नृत्य प्रदर्शन, देशभक्ति गीतों का प्रदर्शन किया जाएगा

कारगिल युद्ध स्मारक, इंडिया [ Kargil War Memorial, India ]

भारतीय सेना द्वारा द्रास में स्थित कारगिल वार मेमोरियल का मुख्य प्रवेश द्वार

कारगिल विजय दिवस

भारतीय सेना द्वारा द्रास में टोलोलिंग हिल की तलहटी [ Foothills ] में कारगिल वार मेमोरियल बनाया गया हैंयह मेमोरियल शहर के मध्य से 5 किमीकी दूरी पर टाइगर हिल के पार बनाया गया हैंइसका निर्माण कारगिल युद्ध में शहीद हुए जवानों की याद में किया गया हैंमेमोरियल के मुख्य द्वार पर 20वीं सदी के प्रसिद्ध हिंदी कवि श्री माखनलाल चतुर्वेदी द्वारा लिखित कविता पुष्प की अभिलाषालिखी हुई हैंमेमोरियल की दीवारों पर उन जवानों के नाम अंकित हैं, जिन्होंने कारगिल युद्ध में अपने प्राणों का बलिदान दे दिया, आगंतुकों [ Visitors ] द्वारा इन्हें पढ़ा जा सकता हैं

एक संग्रहालय [ Museum ] मेमोरियल से ही जुड़ा हुआ हैं, जिसका निर्माण ऑपरेशन विजय की सफलता और हमारे देश की जीत को मनाने के लिए किया गया हैंइस संग्रहालय में हमारे देश के बहादुर जवानों के चित्र, युद्ध के महत्वपूर्ण दस्तावेज़ और रिकॉर्डिंग्स, पाकिस्तानी हथियार और युद्ध में प्रयुक्त सेना के औपचारिक प्रतिक, आदि रखे गये हैं

इस मेमोरियल के अलावा हमारे देश कर पटना शहर में भी कारगिल वार मेमोरियल बनाया गया हैंयह भी हमारे देश की विजय का प्रतिक हैं

कारगिल दिवस पर अनमोल वचन (Kargil War Vijay Diwas History Quotes)

कारगिल दिवस पर कुछ सुविचार इस प्रकार है

  1. वहाँ बिना किसी लिखित आदेश के वापस ले लिया जायेगा और ये आदेश वहाँ कभी भी जारी नही होंगे
  2. चुप रहने के लिए बर्फ में पड़ाव थे, जब बिगुल बजेगा तब वे आगे बढ़ेंगे और फिर से मार्च करेंगे
  3. अगर कोई व्यक्ति यह कहता है कि वह मौत से नहीं डरता है, तो वह यक़ीनन या तो झूठ बोल रहा होता है या तो वह गुरखा (Gurkha) होता है
  4.  कुछ लक्ष्य इतने योग्य है, कि ये हारने के लिए भी गौरवशाली है
  5. आप कभी भी नहीं रह सकते जब तक आप करीबकरीब मर नहीं जाते, और इसके लिए जो लड़ाई का चयन करता है, उनके जीवन में विशेष स्वाद होता है, इसके संरक्षण (Protection) का कभी भी पता नही चलेगा
  6. आश्चर्य है कि क्या हमारे देश के राजनितिक राजाओं में से जिन्हें देश की रक्षा के लिए रखा गया है वे एक गोरिल्ला से गुरिल्ला, एक मोटर से मोर्टार, एक तोप से बंदूक भेद सकते है? हालांकि महान कई और भी हो सकते है
  7. शत्रु हमसे सिर्फ 450 वर्ग फ़ीट दूर है, हम अधिक मात्रा में हैमैं एक इंच भी वापस नहीं करूँगा, लेकिन हमें हमारे आखिरी आदमी और आखिरी दौर के लिए लड़ना होगा
  8. यदि मेरी मौत पर मेरा खून साबित करने से पहले हमला हो गया, तो मैं कसम खाता हूँ कि मैं मौत को मार दूंगा
  9. नहीं सर, मैं मेरे टैंक का परित्याग नहीं करूँगामेरी बन्दूक काम कर रही है और मैं इन कमीनों से भीड़ जाऊंगा
  10. मैं अपने देश के लिए और अधिक चोटियों पर कब्ज़ा करना चाहता हूँ

Ask anything to vikas

    List of Products

    Learning

    Latest Post from Blog

    0 0 votes
    Article Rating
    Subscribe
    Notify of
    0 Comments
    Inline Feedbacks
    View all comments
    0
    Would love your thoughts, please comment.x
    ()
    x