Latest News
जॉर्डन में जहरीली गैस का रिसाव:अब तक 10 लोगों की मौत, 251 घायल, लोगों से घरों में रहने की अपीलजॉर्जिया में सड़क पार कराने वाला स्ट्रीट डॉग:बच्चों के साथ बड़ों की भी मदद करता है; इंस्टाग्राम पर 37,000 से ज्यादा फॉलोअर्सपाकिस्तान में जल संकट से हालात खराब:एग्रीकल्चर सेक्टर प्रभावित, बांधों में भी पानी खत्म, राष्ट्रीय सुरक्षा के लिए बना खतराचीन के गुआंग्शी में 37 लाख लोग पर आफत:बाढ़ से 1.50 लाख हेक्टेयर से ज्यादा फसल बर्बाद, 1.6 अरब डॉलर का नुकसाननेपाल की काठमांडू घाटी में पानी पुरी बैन:12 लोगों के हैजा संक्रमित होने के बाद लिया फैसला, जानिए इसके लक्षण और बचावनए वॉरशिप पर चीन का बड़बोलापन:कहा- फुजियान जैसा एयरक्राफ्ट कैरियर दुनिया में नहीं, इंडियन नेवी ने तकनीक पर सवाल उठाएG-7 नेताओं ने उड़ाया पुतिन का मजाक:रूसी राष्ट्रपति की शर्टलेस तस्वीर देखकर ब्रिटिश PM बोले- हमें भी अपने पैक्स दिखाने चाहिएसाउथ अफ्रीका के नाइटक्लब में मिले 21 स्टूडेंट्स के शव:मरने वालों में 13 साल का बच्चा भी शामिल, मौत की वजह साफ नहींजॉनी डेप को ऑफर हुए 2,355 करोड़ रुपए?:एम्बर हर्ड के खिलाफ केस जीतने के बाद डिज्नी ने ऑफर किया जैक स्पैरो का रोलतापमान और शरीर के आकार के बीच संबंध:एडिनबरा यूनिवर्सिटी का शोध- धरती का तापमान बढ़ने से बौने होते जाएंगे इंसान

पता करें कि क्या बुद्ध पूर्णिमा को अद्वितीय बनाता है और इसका महत्व क्या है?

पता करें कि क्या बुद्ध पूर्णिमा को अद्वितीय बनाता है और इसका महत्व क्या है?

बुद्ध पूर्णिमा – जहां एक तरफ वैशाख पूर्णिमा हिन्दुओं के लिए बेहद अहम मानी जाती है। वहीं, बुद्ध पूर्णिमा बौद्धों के सबसे महत्वपूर्ण त्योहारों में से एक है। इसे भगवान बुद्ध के जयंती के रूप में भी मनाया जाता है। पूर्णिमा  तिथि, हिंदी महीने की हर माह की अंतिम तिथि होती है। वैशाख माह की अंतिम तिथि यानी पूर्णिमा को बुद्ध पूर्णिमा के नाम से जाना जाता है। इसे वैशाख पूर्णिमा भी कहते है। बौद्ध धर्म के साथ साथ हिन्दू धर्म में भी वैशाख पूर्णिमा का बहुत ही महत्त्व है। बौद्ध ध्रर्म ग्रन्थों के मतानुसार, वैशाख पूर्णिमा के दिन बौद्ध धर्म के संस्थापक महात्मा बुद्ध का जन्म हुआ था।इसलिए इसे बुद्ध पूर्णिमा के नाम से भी जाना जाता है। वैशाख माह का समापन 16 मई को होने जा रहा है।

ऐसे में पंचाग के अनुसार, वैशाख के अंतिम दिवस यानी कि 16 मई को बुद्ध पुर्णिमा (Vaishakh Purnima 2022) का योग बन रहा है।

बुद्ध पूर्णिमा

भगवान बुद्ध का जीवन

हर कोई जानता है कि बुद्ध दुनिया के प्रबुद्ध बौद्ध प्रचारक थे, लेकिन उन घटनाओं को समझना भी महत्वपूर्ण है जो सिद्धार्थ गौतम के निर्वाण की ओर ले गईं। बौद्ध शिक्षाविदों के अनुसार, सिद्धार्थ का जन्म एक भारतीय कुलीन परिवार में हुआ था। सिद्धार्थ बचपन में दुनिया की समस्याओं से पूरी तरह बेखबर थे और एक शानदार जीवन शैली जीते थे। सिद्धार्थ को बाहरी दुनिया में दिलचस्पी हो गई और उन्होंने अपने एक परिचारक को पास के एक बेसहारा गांव में ले जाने के लिए कहा।

सिद्धार्थ को अपनी संक्षिप्त यात्रा में बीमारी, दुःख और लालच सहित कई भयानक दृश्यों का सामना करना पड़ा। इस घटना ने सिद्धार्थ को बहुत उदास कर दिया, और उसके बाद उन्होंने शराब या महिलाओं जैसे बुनियादी सुखों का भी आनंद लेना बंद कर दिया। इस मुलाकात के तुरंत बाद सिद्धार्थ ने सांसारिक दुखों के स्रोत की खोज शुरू कर दी। कई वर्षों के आत्म-चिंतन, पीड़ा और ध्यान के बाद सिद्धार्थ ने महसूस किया कि मानव की इच्छा सभी सांसारिक दुखों का स्रोत है। ज्ञान प्राप्त करने के बाद सिद्धार्थ ने भारत के लोगों को अपना पाठ पढ़ाया। 80 वर्ष की आयु में सिद्धार्थ गौतम का निधन हो गया। आज भी, सिद्धार्थ गौतम की शिक्षाएँ दुनिया भर में प्रसिद्ध हैं।

बुद्ध पूर्णिमा

महात्मा बुद्ध विष्णु के नौवें अवतार हैं

  1. पौराणिक कथाओं के अनुसार महात्मा बुद्ध को भगवान विष्णु का 9वां अवतार माना जाता है। बुद्ध पूर्णिमा हिंदू धार्मिक अनुयायियों के बीच विशेष रूप से महत्वपूर्ण है क्योंकि भगवान बुद्ध भगवान विष्णु के बुद्ध अवतार हैं।
  2. बौद्ध लोग इस दिन बुद्ध पूर्णिमा को रोशनी के त्योहार के रूप में मनाते हैं। इस दिन जरूरतमंदों को भोजन दान करने की प्रथा है।
  3. धार्मिक मान्यताओं के अनुसार वैशाख या बुद्ध पूर्णिमा के दिन महात्मा बुद्ध, भगवान विष्णु और चंद्र देव की विधि के अनुसार पूजा की जाती है।
  4. इतना ही नहीं इस दिन लोग पूर्णिमा के दिन उपवास रखते हैं और भगवान की पूजा करते हैं। गरीबों और जरूरतमंदों को दान करें।
  5. कहा जाता है कि भगवान विष्णु और चंद्रदेव उपासकों को आशीर्वाद देते हैं और उनकी सभी इच्छाओं को शीघ्र पूरा करते हैं।
बुद्ध पूर्णिमा

चंद्र ग्रहण 2022

सूर्य ग्रहण के बाद चंद्र ग्रहण लगेगा। साल 2022 का पहला चंद्र ग्रहण 16 मई को लगेगा। यह बुद्ध पूर्णिमा का दिन है। वैशाख पूर्णिमा के दिन 16 मई को विशाखा नक्षत्र और वृश्चिक राशि में चंद्र ग्रहण लगेगा। इस बार पूर्ण चंद्र ग्रहण होगा। बुद्ध पूर्णिमा पर लगने वाला चंद्र ग्रहण इस दिन परिघ योग में मनाया जाएगा। धार्मिक मान्यताओं में चंद्र ग्रहण का बहुत महत्व है। भारत में यह चंद्र ग्रहण नहीं देखा जाएगा। 16 मई को यह सुबह 08:59 बजे से शुरू होकर भारतीय समयानुसार सुबह 10.23 बजे तक चलेगा।

16 मई 2022 की पूर्णिमा को साल का पहला चंद्र ग्रहण लगेगा। इस दिन बुद्ध पूर्णिमा उत्सव मनाया जाएगा। भगवान बुद्ध को हिंदू धर्म में भगवान विष्णु का नौवां अवतार माना जाता है। बुद्ध पूर्णिमा पर पवित्र नदियों में स्नान, दान और ध्यान करने का बहुत महत्व है।

बुद्ध पूर्णिमा

कब लगेगा चंद्र ग्रहण 

15 दिनों के अंतराल पर साल 2022 का दूसरा ग्रहण 16 मई को लेगा। इससे पहले 30 अप्रैल को सूर्य ग्रहण लगा था।  16 मई को लगने वाला चंद्रग्रहण एक पूर्ण चंद्र ग्रहण होगा। भारतीय समय के अनुसार इस चंद्र ग्रहण की अवधि 16 मई की सुबह 08 बजकर 59 मिनट से सुबह 10 बजकर 23 मिनट रहेगा। यह चंद्रग्रहण भारत में दिखाई नहीं देगा।

चंद्र ग्रहण यहां पर देखा जा सकेगा

भारत में इस चंद्र ग्रहण को नहीं देखा जा सकेगा। साल का पहला पूर्ण चंद्रग्रहण दक्षिण-पश्चिमी यूरोप, एशिया, अफ्रीका, उत्तरी अमेरिका, दक्षिण अमेरिका, प्रशांत महासागर, हिंद महासागर में दिखाई देगा।

वैशाख पूर्णिमा के दिन  करें इन तीन देवों की पूजा

बौद्ध धर्म में वैशाख पूर्णिमा के दिन भगवान बुद्ध की पूजा का विधान है। मान्यता है कि इस दिन भगवान बुद्ध की पूजा करने से भक्तों के सारे सांसारिक कष्ट मिट जाते हैं। शास्त्रों की मान्यता है कि वैशाख पूर्णिमा के दिन भगवान बुद्ध, के साथ यदि भगवान विष्णु और भगवान चंद्रदेव की भी पूजा की जाए तो मनोकामनाएं बहुत ही जल्द पूरी हो जाती हैं। व्यक्ति के जीवन से संकटों का नाश होता है और सौभाग्य का उदय होता है।

बुद्ध पूर्णिमा का इतिहास (budha purnima)

सिद्धार्थ गौतम की मृत्यु के बाद सैकड़ों वर्षों से गौतम बुद्ध पूर्णिमा का उत्सव मनाया जाता था। इसके बावजूद, इस उत्सव को 20वीं सदी के मध्य से पहले तक आधिकारिक बौद्ध अवकाश का दर्ज़ा नहीं दिया गया था। 1950 में, बौद्ध धर्म की चर्चा करने के लिए श्रीलंका में विश्व बौद्ध सभा का आयोजन किया गया। इस सभा में, उन्होंने बुद्ध पौर्णिमा को आधिकारिक अवकाश बनाने का फैसला किया जो भगवान बुद्ध के जन्म, जीवन और मृत्यु के सम्मान में मनाया जायेगा।

गतिविधियां

कई भारतीय बौद्ध मानवता और मनोरंजन के विभिन्न गतिविधियों के माध्यम से बुद्ध पूर्णिमा का उत्सव मनाते हैं।

भोर से पहले समारोह

बुद्ध पूर्णिमा मनाने के सबसे सामान्य तरीकों में से एक है सूर्योदय होने से पहले पूजास्थल पर एकत्रित होना। यह समारोह विभिन्न प्रार्थनाओं और नृत्य के साथ मनाया जाता है। कुछ क्षेत्रों में, परेड और शारीरिक व्यायाम किया जाता है। यह स्वास्थ्य और जीवन की सरल चीजों के लिए कृतज्ञता दर्शाने का एक तरीका होता है। कुछ लोग भजन में भी हिस्सा लेते हैं।

बौद्ध झंडा फहराना

बुद्ध पूर्णिमा के दिन सूर्योदय होने के बाद, मंदिरों और धार्मिक महत्ता वाले अन्य स्थानों पर बौद्ध झंडा फहराया जाता है। आधुनिक बौद्ध झंडे का अविष्कार श्रीलंका में किया गया था। यह मुख्य रूप से नीले, लाल, सफ़ेद, नारंगी और पीले रंग में है। नीला रंग सभी सजीव वस्तुओं के लिए प्रेम और सम्मान दर्शाता है। लाल रंग आशीर्वाद का प्रतीक है। सफ़ेद रंग धर्म की शुद्धता दर्शाता है। नारंगी रंग बुद्धिमत्ता दर्शाता है। अंत में, पीला रंग मध्य मार्ग, और कठिन स्थितियों से बचने की प्रतिबद्धता दर्शाता है।

दान

कई बौद्ध मंदिर उत्सवों का आयोजन करते हैं जो सभी उम्र के लोगों के लिए मुफ्त गतिविधियां प्रदान करते हैं। चूँकि ये कार्यक्रम निःशुल्क होते हैं, इसलिए भागीदारों के लिए भिक्षुओं को पैसे या भोजन दान करने की उम्मीद की जाती है।

पिंजरे में बंद जानवरों को मुक्त करना

सहानुभूति दिखाने के लिए, कई लोग बुद्ध पूर्णिमा के दिन पिंजरे में बंद पंक्षियों और अन्य जानवरों को बाहर निकालते हैं। यह प्रथा दुनिया भर में मनुष्यों को बंदी बनाने के नैतिक मामले पर भी प्रकाश डालती है।

भारत में बुद्ध पूर्णिमा मनाने के लिए कुछ सर्वश्रेष्ठ स्थानों में से हैं-

  1. बोधगया
  2. गंगटोक
  3. सारनाथ

बुद्ध पूर्णिमा भारतीय बौद्ध के लिए सहानुभूति दिखाने का और भगवान बुद्ध के जन्म, मृत्यु और ज्ञान का स्मरण करने का उत्सव होता है।

बुद्ध पूर्णिमा या बुद्ध जयंती (buddha purnima hindi)

बुद्ध पूर्णिमा

एक बार सिद्धार्थ अपने घर से टहलने के क्रम में दूर निकल गए। अपनी यात्रा के दौरान उन्होंने एक अत्यंत बीमार व्यक्ति को देखा, कुछ पल और चलने के बाद एक वृद्ध व्यक्ति को देखा, यात्रा के समापन में एक मृत व्यक्ति को देखा। इन सबसे सिद्धार्थ के मन में एक प्रश्न उभर आई की क्या मैं भी बीमार पडूंगा। क्या मैं भी वृद्ध हो जाऊंगा, क्या मैं भी मर जाऊंगा।

सिद्धार्थ इन सब प्रश्नो से बहुत परेशान हो गए। तत्पश्चात सिद्धार्थ इन सबसे मुक्ति पानी की खोज में निकल गए। उस समय उनकी मुलाकात एक सन्यासी से हुई जिसने भगवान बुद्ध को मुक्ति मार्ग के विषय में विस्तार पूर्वक बताया। तब से भगवान बुद्ध ने सन्यास ग्रहण करने की ठान ली।

भगवान बुद्ध ने 29 वर्ष की उम्र में घर छोड़ दिया तथा सन्यास ग्रहण कर लिया। सन्यासी बनने के पश्चात भगवान बुद्ध ने एक पीपल वृक्ष के निचे 6 वर्ष तक कठिन तपस्या की। तत्पश्चात उन्हें सत्य का ज्ञान प्राप्त हुआ। वैशाख पूर्णिमा के दिन ही भगवन बुद्ध को पीपल वृक्ष के नीचे सत्य ज्ञान की प्राप्ति हुई थी। जिसे सम्बोधि कहा जाता है तथा उस पीपल वृक्ष को बोधि वृक्ष कहा जाता है। जहाँ पर भगवान बुद्ध को ज्ञान प्राप्त हुआ वह स्थान बोधगया कहलाया। महात्मा बुध ने अपना पहला उपदेश सारनाथ में दिया था

भगवान बुध 483 ईसा पूर्व वैशाख पूर्णिमा के दिन अपने आत्मा को शरीर से अलग कर ब्रह्माण्ड में लीन हो गए। यह घटना महापरिनिर्वाण कहलाया। भगवान बुद्ध को शत शत नमन।

Ask anything to vikas

    List of Products

    Learning

    Latest Post from Blog

    0 0 votes
    Article Rating
    Subscribe
    Notify of
    1 Comment
    Newest
    Oldest Most Voted
    Inline Feedbacks
    View all comments

    […] पता करें कि क्या बुद्ध पूर्णिमा को अद्… […]

    1
    0
    Would love your thoughts, please comment.x
    ()
    x